Sidebar Menu

Fri, 01 July 2022

जिहादी दुल्हन शमीमा बेगम को अब सता रहा मौत का डर, मिल सकती है फांसी

दमिश्क। जिहाद के नाम पर सिर्फ 15 साल की उम्र में आतंकवादी संगठन आईएसआईएस में शामिल होने वाली ब्रिटिश नागरिक शमीमा बेगम, जो ‘जिहादी दुल्हन’ के नाम से दुनिया में प्रसिद्ध है। अब उसे जहन्नुम जाने का डर सता रहा है। महज 15...

दमिश्क। जिहाद के नाम पर सिर्फ 15 साल की उम्र में आतंकवादी संगठन आईएसआईएस में शामिल होने वाली ब्रिटिश नागरिक शमीमा बेगम, जो ‘जिहादी दुल्हन’ के नाम से दुनिया में प्रसिद्ध है। अब उसे जहन्नुम जाने का डर सता रहा है। महज 15 साल की उम्र में ब्रिटेन से भागकर आईएसआईएस में शामिल होने वाली शमीमा बेगम के खिलाफ अब आतंकवादी धाराओं में ट्रायल शुरू हो रहा है। अब शमीमा बेगम को लग रहा है कि उसे फांसी की सजा मिल सकती है। अधिकारियों ने शमीमा और आईएसआईएस से संबंधों की जांच के आदेश दिये हैं।

शमीमा की नागरिकता भी ब्रिटेन ने खत्म कर दी है. वहीं, कानूनी दिक्कतों के कारण वह बांग्लादेश भी नहीं जा सकती। अब जिहादी दुल्हन सीरिया के एक शरणार्थी कैंप में रह रही है। शमीमा ने 15 साल की उम्र में अपनी दो सहेलियों अमीरा अबासे और कदीज़ा सुल्ताना के साथ ब्रिटेन छोड़ दिया था। अधिकारी अब इस बात की जांच कर रहे हैं कि क्या शमीमा ने आईएसआईएस के लिए आत्मघाती हमलावर तैयार किए.

शमीमा के दोस्तों का कहना है कि वह सीरिया के रोजवा क्षेत्र में रह रही है. उसे वहां की न्याय प्रणाली पर विश्वास नहीं है, इसलिए वह ब्रिटेन लौटने के लिए बेताब है। ‘द सन’ की रिपोर्ट के मुताबिक शमीमा यह बात जानती है कि अगर वह आतंकवाद के मामले में दोषी पाई गई तो उसे मौत की सजा मिलेगी। वह बहुत डरी हुई और चिंतित है. उसे ऐसा लग रहा है कि आतंकवाद अपराधों में शामिल अन्य आरोपी महिलाओं के साथ उसका मुकदमा चलाया जाएगा।

शमीमा के मुकदमे की कोई तारीख तय नहीं हुई है, लेकिन उसे बताया गया है कि सितंबर और अक्टूबर में उसके मुकदमे की सुनवाई होगी. रोजवा के अधिकारी मृत्युदंड की वकालत नहीं कर रहे, लेकिन वह ये मानते हैं कि जिहादी दुल्हन सजा से नहीं बच सकेगी। पिछले साल एक इंटरव्यू में शमीमा ने कहा था कि मेरी गलती सिर्फ इतनी है कि मैंने ब्रिटेन छोड़ दिया था। मैं तब 15 साल की थी और मुझे बहका दिया गया था।

रिपोर्ट के मुताबिक, उसे बुरी तरह से डरा हुआ देखकर अधिकारियों ने उसे समझाने की कोशिश की, कि उसके लिए मौत की सजा की वकालत नहीं की जाएगी, लेकिन अधिकारी उसे समझाने में नाकामयाब रहे। Posted By: VILAS TIWARI


About Author

Leave a Comment