Sidebar Menu

Fri, 01 July 2022

महाराष्ट्र में सियासी घटनाक्रम: इस्तीफा दे सकते हैं उद्धव ठाकरे, कैबिनेट मीटिंग में नहीं आया शिवसेना का कोई मंत्री

मुंबई। महाराष्ट्र में सियासी घटनाक्रम तेजी से बदल रहा है। शिवसेना के दिग्गज नेता एकनाथ शिंदे ने बड़ी बगावत कर दी है, जिसके कारण उद्धव ठाकरे सरकार पर संकट मंडरा रहा है। कल तक सूरत में ठहराए गए शिवसेना के बागी विधायकों...

मुंबई। महाराष्ट्र में सियासी घटनाक्रम तेजी से बदल रहा है। शिवसेना के दिग्गज नेता एकनाथ शिंदे ने बड़ी बगावत कर दी है, जिसके कारण उद्धव ठाकरे सरकार पर संकट मंडरा रहा है। कल तक सूरत में ठहराए गए शिवसेना के बागी विधायकों को बुधवार सुबह असम की राजधानी गुवाहाटी लाया गया। गुवाहाटी एयरपोर्ट पर एकनाथ शिंदे ने बड़ा दावा किया। बकौल एकनाथ शिंदे, मेरे साथ शिवसेना के 40 विधायक मौजूद हैं। खबर यह भी है कि एकनाथ शिंदे महाराष्ट्र राज्यपाल को चिट्ठी भी लिख दी है और माना जा रहा है कि वे जल्द ही राज्यपाल से मिल सकते हैं। हालांकि एक बुरी खबर यह है कि राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी कोरोन संक्रमित हो गए हैं और उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया है। इससे महाराष्ट्र का घटनाक्रम लंबी खींच सकता है। कहा जा रहा है कि गोवा के राज्यपाल को महाराष्ट्र का अतिरिक्त प्रभार दिया जा सकता है।

कैबिनेट बैठक में नहीं शिवसेना का कोई मंत्री: सियासी संकट के बीच उद्धव ठाकरे ने कैबिनेट बैठक बुलाई थी। बैठक में एनसीपी और कांग्रेस कोटे के मंत्री जरूर पहुंचे, लेकिन शिवसेना का कोई मंत्री नहीं आया। खुद उद्धव ठाकरे भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से जरिए जुटे, क्योंकि उनकी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है।

शिंदे कैंप में फूट: शिंदे कैंप के विधायक नितिन देशमुख ने बड़ा बयान दिया है। नितिन देशमुख के मुताबिक, उन्हें धमका कर ले जाया गया था। मैं उद्धव ठाकरे और शिवसेना के साथ हूं। सूरत में मुझे जबरदस्ती रखा गया। मुझे हार्ट अटैक नहीं आया था। वहां डॉक्टर मेरे शरीर पर कुछ करना चाहते थे। मुझे मारने की साजिश थी। 100 से अधिक पुलिस वाले मेरे पीछे थे। मुझे जाने नहीं दिया गया। अब मैं मुंबई जा रहा हूं। आपको बता दें, नितिन देशमुख की पत्नी ने उनकी गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाई थी। नितिन देशमुख के सामने आने के बाद सवाल उठ रहे हैं कि एकनाथ शिंदे इन विधायकों को कहीं उनकी मर्जी के खिलाफ तो साथ नहीं ले गए हैं? क्या और भी विधायक इसी तरह सामने आएंगे?

उद्धव ठाकरे को हुआ कोरोना: महाराष्ट्र में जहां सियासी उथल-पुथल मची है, वहीं उद्धव ठाकरे की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव हुई हैं। इसके बाद ही उनके सारे कार्यक्रम रद्द कर दिए गए हैं। वे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कैबिनेट बैठक में जुटेंगे। कांग्रेस नेता कमलनाथ ने उद्धव के कोरोना पॉजिटिव होने की जानकारी दी।

किसी भी वक्त इस्तीफा दे सकते हैं उद्धव: उद्धव ठाकरे के बारे में कहा जा रहा है कि अब वे इस्तीफा देने का मन बना रहे हैं। इस बारे में उद्धव अपने सहयोगियों और सरकार के साथियों से विचार-विमर्श कर रहे हैं। शिवसेना की सोच यही है कि विधानसभा में सरकार गिरने से अच्छा है कि उद्धव पहले ही इस्तीफा दे दे।

क्या बाजी हार चुके हैं उद्धव ठाकरे: संजय राउत के ताजा बयानों के बाद कहा जा रहा है कि उद्धव ठाकरे बाजी हार चुके हैं। संजय राउत ने पहले एक बयान में कहा कि ज्यादा से ज्यादा क्या होगा, सत्ता चली जाएगी। प्रतिष्ठा रहना चाहिए, सत्ता जाएगी तो फिर आ जाएगी। इसके बाद उन्होंने एक ट्वीट में संकेत दिया कि विधानसभा भंग की जा सकती है। आज दिन में होने वाली कैबिनेट बैठक में इसकी अनुशंसा की जा सकती है।

अपने ही गृह मंत्री से नाराज शरद पवार: एनसीपी प्रमुख शरद पवार अपनी ही पार्टी के कोटे से उद्धव सरकार में गृह मंत्री दिलीप वसले पाटिल से नाराज हैं। पवार के साथ ही उद्धव ठाकरे ने पाटिल से पूछा है कि आखिर विधायक महाराष्ट्र से बाहर कैसे चले गए?

राज्यपाल के बुलावे का इंतजार: गुवाहाटी की होटल रेडिसन ब्लू में एकनाथ शिंदे अपनी आगे की रणनीति बना रहे हैं। उनके हवाले से कहा जा रहा है कि वे राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी को चिट्ठी लिख चुके हैं। इस चिट्ठी को महाराष्ट्र राजभवन में फैक्स किया जा रहा है। यदि राज्यपाल बुलाते हैं तो वे सभी विधायकों को लेकर राजभवन जा सकते हैं और वहां परेड करवाई जा सकती है।

आपको बता दें, असम में बीजेपी की सरकार है। राज्य बीजेपी का शीर्ष नेतृत्व तथा राज्य सरकार ने गुवाहाटी में शिवसेना के बागी विधायकों के ठहरने की व्यवस्था की है। सूत्रों का कहना है कि बागी विधायकों को वहां के रैडिसन होटल में ठहराया गया है। यह संभवत: पहली बार है जब पार्टी नेतृत्व के खिलाफ बगावत करने के बाद किसी पश्चिमी राज्य के विधायकों को पूर्वोत्तर राज्य में स्थानांतरित किया गया है।

शिवसेना ने अपने बाकी विधायकों को होटलों में ठहराया- खुद को और विधायकों को टूटने से बचाने के लिए शिवसेना ने उन्हें मुंबई के विभिन्न होटलों में ठहराया है. एक विधायक ने यह जानकारी दी, लेकिन उन्होंने उन होटलों के नाम नहीं बताए जिनमें विधायक ठहरे हुए हैं। शिवसेना के बागी विधायकों में से एक नितिन देशमुख की तबीयत बिगड़ने के बाद उन्हें सोमवार रात सूरत के एक अस्पताल में भर्ती कराना पड़ा। एकनाथ शिंदे मंगलवार रात उनसे मिलने अस्पताल पहुंचे, जिसके बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दे दी गई. नितिन को अस्पताल में भर्ती क्यों कराना पड़ा, इसका पता नहीं चल सका है। मुंबई में शिवसेना नेता संजय राउत ने आरोप लगाया था कि नितिन का अपहरण किया गया और उसके साथ मारपीट की गई। Posted By: VILAS TIWARI


About Author

Leave a Comment